सन्त किसे कहते हैं ? संत शब्द की परिभाषा और अर्थ तथा लक्षण

0
सन्त किसे कहते हैं ? संत शब्द की परिभाषा और अर्थ तथा लक्षण



 जो ईश्वर अथवा शाश्वत सत्ता में निवास करता है; जो अहंकार, राग-द्वेष, स्वार्थपरता, मिथ्याभिमान, अहं-भाव, काम, लोभ तथा क्रोध से सर्वथा मुक्त है; जो समदृष्टि, मानसिक सन्तुलन, दया, सहिष्णुता, धर्म-परायणता तथा ब्रह्माण्डीय प्रेम से ओत-प्रोत है तथा जिसे दिव्य ज्ञान की सम्प्राप्ति हो चुकी है, उसी को सन्त कहते हैं।

                संसार को साधु-सन्त वस्तुतः एक वरदान के रूप में प्राप्त हुए हैं। वे उच्चतर दिव्य ज्ञान, आध्यात्मिक शक्ति तथा अक्षय दैवी सम्पत्ति के अभिरक्षक हैं। उनके कमलवत् चरणों के समक्ष राजा-महाराजा भी नतमस्तक होते हैं। महाराजा जनक ने एक बार याज्ञवल्क्य से कहा था- "हे प्रणम्य सन्त, आपके उदात्त उपदेशों के माध्यम से मुझे उपनिषदों के प्राचीन ज्ञान की उपलब्धि हुई है। मैं इसके लिए आपका कृतज्ञ हूँ और आपके चरणों पर अपना सम्पूर्ण साम्राज्य अर्पित करता हूँ । अब मैं आपकी सेवा में आपके दास की भाँति उपस्थित रहूँगा।'

                उदारचेता साधु-सन्तों का यही स्वभाव होता है। उनके अस्तित्व मात्र से अभिप्रेरित हो कर लोग उस आनन्दमय स्थिति की सम्प्राप्ति के प्रयत्न में संलग्न हो जाते हैं, जिस स्थिति को साधु-सन्त पहले ही प्राप्त कर चुके होते हैं। यदि ये लोग हमारे बीच विद्यमान नहीं रहते, तो हमारा आध्यात्मिक ऊर्ध्वारोहण तथा निर्वाण असम्भव हो जाता है। उनकी महिमा अवर्णनीय तथा उनका ज्ञान अगाध होता है। वे समुद्र की भाँति गहन, हिमालय पर्वत की भाँति अटल, उसके तुहिन की भाँति विशुद्ध एवं सूर्य की भाँति देदीप्यमान होते हैं। उनकी कृपा तथा उनके सत्संग से ही जन्म-मरण के इस भीषण भव-सागर का सन्तरण हो जाता है। उनका सान्निध्य सर्वोत्तम शिक्षण तथा उनके प्रति हमारी श्रद्धा सर्वोच्च आनन्द है ।

सन्त किसे कहते हैं ? संत शब्द की परिभाषा और अर्थ तथा लक्षण


                     सन्त गाँव-गाँव तथा द्वार-द्वार पर जा कर दिव्य ज्ञान का प्रसाद वितरित करते हैं। वे दूसरों से अत्यल्प ग्रहण करके मानवता को सर्वोच्च शिक्षण, संस्कृति तथा ज्ञान का प्रकाश प्रदान करते हैं। उनका समग्र जीवन ही अनुकरणीय होता है। वे भाषण दें या न दें, प्रवचन करें या न करें, यह महत्त्वपूर्ण बात नहीं है।

                          राजाओं के यथार्थ परामर्शदाता सन्त ही हो सकते हैं, क्योंकि वे स्वार्थपरता से मुक्त होते हैं और उनका ज्ञान सर्वोच्च होता है। लोगों की नैतिकता के विकास साधु सन्त मे ही समर्थ होते हैं। केवल वे ही अमरत्व तथा शाश्वत आनन्द की सम्प्राप्ति में हमारा आपका पथ-प्रदर्शन कर सकते हैं। स्वामी रामदास शिवाजी के तथा महर्षि वसिष्ठ राजा दशरथ के परामर्शदाता थे।

                     सन्तों के जीवन का अध्ययन आपके लिए तत्काल ही प्रेरणाप्रद सिद्ध होगा। आप उनके उपदेशों का स्मरण करते रहिए। इससे आप उच्चतर आध्यात्मिक स्थिति को प्राप्त होंगे और आपको दुःख-दैन्य से मुक्ति प्राप्त हो जायेगी। अतः 'लाइव्ज़ आफ सेंट्स' नामक यह पुस्तक आपकी नित्य सहचरी सिद्ध होगी। यह आपकी जेब में तथा तकिये के नीचे निश्चित रूप से विद्यमान होनी चाहिए।

                       दोष-दर्शन के अपने स्वभाव तथा अपनी कुदृष्टि के कारण सन्तों पर दोषारोपण मत कीजिए। उनके गुण-दोष के सम्बन्ध में आपको निर्णय देने का कोई अधिकार नहीं हैं । विनम्र भाव से उनकी सेवा में आप सर्वतोभावेन संलग्न रहिए, उनको अपनी वाटिका में आमन्त्रित कर अपनी शङ्काओं का समाधान कीजिए तथा उनके उपदेशामृत का पान कर उसे कार्यान्वित कीजिए। आप निश्चित रूप से कृतकृत्य होंगे।

                        प्रत्येक विद्यालय, प्रत्येक महाविद्यालय, प्रत्येक छात्रावास, प्रत्येक कारागार, प्रत्येक संस्था तथा प्रत्येक घर में मार्ग-दर्शन के लिए सन्त का होना आवश्यक है। सन्तों का अभाव नहीं है। बात केवल इतनी है कि आप स्वयं उनके पास जाना तथा उनकी सेवा करना नहीं चाहते। आपमें उच्चतर वस्तुओं की सम्प्राप्ति की इच्छा का अभाव है। आप काँच के टूटे-फूटे टुकड़ों से ही सन्तुष्ट हो गये हैं। आपमें उच्चतर दिव्य ज्ञान तथा आन्तरिक शान्ति की सम्प्राप्ति की आध्यात्मिक पिपासा का अभाव है।

                        सन्तों की कोई जाति नहीं होती। उनकी जाति की ओर ध्यान मत दीजिए। इससे आपको कोई लाभ नहीं होगा। आपके लिए उनके गुणों को आत्मसात् कर पाना असम्भव है। उच्चतर धर्म में जाति या धार्मिक रूढ़िवादिता के लिए कोई स्थान नहीं होता। मोचियों, जुलाहों तथा अन्त्यजों में भी अनेक महान् सन्त हुए हैं। ज्ञान तथा आत्मोपलब्धि पर ब्राह्मणों का एकाधिकार नहीं है। दक्षिण भारत के ब्राह्मण केवल दण्डी स्वामियों को ही भोजन देते हैं। यह भयंकर भूल है। कितनी दुःखद है यह स्थिति ! इसी कारण साधु-सन्त दक्षिण भारत का पर्यटन नहीं करते। पंजाब तथा गुजरात के लोगों में सभी सन्तों के प्रति आदर भाव है। अतः उन राज्यों में सन्तों का आना-जाना लगा रहता है तथा वहाँ के लोग उनके आध्यात्मिक प्रवचनों से लाभान्वित होते रहते हैं।

                           सन्त किसी भी देश के क्यों न हों, वे काल के सिकता-कणों पर अपने चरण-चिह्न छोड़ गये हैं जिससे सात्त्विक वृत्ति के लोग उनका अनुसरण कर शाश्वत सत्य के दर्शन कर सकें। उनके जीवन से हमें सतत प्रेरणा प्राप्त होती रही है और हम अभी तक उनकी महिमा का स्मरण करते आ रहे हैं। उनके उपदेशों का हमारे जीवन से अविच्छेद्य सम्बन्ध रहा है। वे हमें सतत अभिप्रेरित करते रहें! वे हमारा सदैव मार्ग-दर्शन करते रहें !

                       सन्तों को किसी स्थान- विशेष अथवा देश से सम्बद्ध करके नहीं देखा-परखा जा सकता। उनके प्रभाव को भौगोलिक सीमाएँ अवरुद्ध नहीं कर सकतीं। वे समस्त संसार के होते हैं। हाँ, उनके प्रादेशिक आधार के परिप्रेक्ष्य में उन पर विचार करने से यह बात स्पष्ट हो जाती है कि उनमें से प्रत्येक से उद्भूत आध्यात्मिक धाराएँ कहाँ-कहाँ से निकली तथा किस प्रकार उन सब सन्तों के सम्मिलित आध्यात्मिक प्रभाव ने पूरे देश के आध्यात्मिक पुनरुत्थान में योगदान दिया ।

                    मनुष्य स्वयं को निर्बल तथा असहाय समझ लेता है; किन्तु उसे सम्यक् मार्ग-दर्शन में अध्यवसाय द्वारा इस अशुभ प्रवृत्ति का उन्मूलन करना चाहिए। ऐसे लोगों के लिए सन्तों की जीवनियाँ पथ-प्रदर्शक का काम करती हैं। ये उनके जीवन, चरित्र तथा भविष्य का निर्माण सर्वथा नवीन विधि से कर देती हैं और उनकी मानसिकता को एक नयी दिशा प्रदान कर उन्हें उनके पथ-प्रदर्शकों की आस्था तथा उनके उपदेशों के अनुरूप बना देती हैं। इतने सच्चे तथा विश्वस्त पथ-प्रदर्शक होते हैं सन्त—जो इस धरती पर आये और प्रयाण कर गये !

सन्त किसे कहते हैं ? संत शब्द की परिभाषा और अर्थ तथा लक्षण


                     यह संसार अच्छे साधु-सन्तों से परिपूरित रहे ! आप सबको उनके सत्संग तथा परामर्श से जीवन के परम लक्ष्य की सम्प्राप्ति हो ! आप सबको इन सन्तों का आशीर्वाद प्राप्त होता रहे !


                   धन्‍यवाद

FAQ


क्या है सन्त शब्द का अर्थ?

क्या है सन्त शब्द का अर्थ? सन्त शब्द का अर्थ है - ईश्वर या शाश्वत सत्ता में निवास करने वाला, जो अहंकार, राग-द्वेष, स्वार्थपरता, मिथ्याभिमान, अहं-भाव, काम, लोभ और क्रोध से पूरी तरह मुक्त है। उसके पास समदृष्टि, मानसिक सन्तुलन, दया, सहिष्णुता, धर्म-परायणता और ब्रह्माण्डीय प्रेम होता है। वह दिव्य ज्ञान को प्राप्त कर चुका होता है।

सन्तों के जीवन का महत्व क्या है?

सन्तों के जीवन का महत्व इसलिए है क्योंकि उनके उपदेश और सत्संग से हम आध्यात्मिक उन्नति और सद्गुणों की प्राप्ति कर सकते हैं। उनके जीवन की जीवनी हमें प्रेरणा प्रदान करती है और उनका उपदेश हमें साधारण जीवन को उद्दीपित करते हैं। सन्तों के जीवन से हमें सच्चे साधुत्व का अनुभव होता है और हम अपने जीवन को उनके मार्ग-दर्शन के अनुसार जी सकते हैं।

सन्तों के सत्संग में क्या होता है?

सन्तों के सत्संग में उनके उपदेश और प्रवचन होते हैं। लोग उनके सवालों के उत्तर प्राप्त करते हैं और आध्यात्मिक ज्ञान को समझने का प्रयास करते हैं। सत्संग में श्रद्धालु लोग आत्मानुसंधान करते हैं और आत्मा के साथ अभिप्रेरित होते हैं। सन्तों के सत्संग से लोगों को आध्यात्मिक शक्ति, शांति, आनंद, और उच्चतर स्तर के ज्ञान की प्राप्ति होती है।

सन्त की सेवा क्यों करनी चाहिए?

सन्त की सेवा करने से हम उनके सत्संग और उपदेशों का लाभ प्राप्त कर सकते हैं और आध्यात्मिक उन्नति के पथ पर चल सकते हैं। सन्तों की सेवा से हम उनके सत्संग में भाग लेने और उनसे आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त करने का अवसर प्राप्त करते हैं। उनकी सेवा करने से हम आत्मिक समृद्धि, शांति, और सद्गुणों का विकास कर सकते हैं। सन्तों की सेवा से हम आनंदमय जीवन जी सकते हैं और उच्चतर आध्यात्मिक स्थिति को प्राप्त कर सकते हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

This site uses cookies from Google to deliver its services and to analyze traffic. Your IP address and user-agent are shared with Google along with performance and security metrics to ensure quality of service, generate usage statistics, and to detect and address abuse. Check Now
Accept !